बगलामुखी गायत्री मंत्र Baglamukhi Gayatri Mantra

Baglamukhi Gayatri Mantra बगलामुखी गायत्री मंत्र

बगलामुखी गायत्री मंत्र के विषय में कहा गया है कि बगला-गायत्री मंत्र , बगलामुखी के जितने भी  मंत्र हैं, उन सबका प्राण है।बगला-गायत्री का जप किए बिना यदि साधक बगला के अन्य किसी भी मंत्र का चाहे लाखों-करोड़ों की संख्या में जप कर ले तो भी वह मंत्र अपना फल नहीं देता अर्थात् सिद्ध नहीं होता है। इसलिए आवश्यक है कि यदि बगला के किसी भी मंत्र को सिद्ध करना है, उसका फल प्राप्त करना है तो बगला-गायत्री का भी जप किया जाए।

बगलामुखी साधना से सम्बंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें संपर्क करें – 9917325788 ( श्री योगेश्वरानंद जी ) , 9540674788 ( सुमित गिरधरवाल )

If you want read baglamukhi gayatri mantra in english click here

इसके लिए विधान है कि यदि आप भगवती बगलामुखी के किसी भी मंत्र का पुरश्चरण कर रहे हों तो कम से कम उसका दशांश बगलामुखी गायत्री मंत्र का जप अवश्य करें। इसी प्रकार यदि बगलामुखी के किसी भी मंत्र का प्रयोग कर रहे हों तो उसका 1/10 भाग बगलामुखी गायत्री का जप अवश्य करें क्योंकि बगला-गायत्री बगला-महामंत्र का जीवन है।
यह भी स्मरण रखें कि बगला-गायत्री से सम्बन्धित किसी भी साधना अथवा प्रयोग में जहां मंत्र -जप की संख्या निर्धारित ना हो वहां जप-संख्या एक लाख समझना चाहिए। इसी प्रकार जहां दिनों की संख्या का उल्लेख ना हो वहां 15 दिन प्रयोग-काल मानना चाहिए। जैसा कि सांख्यायन तंत्र में भी उल्लेख आया है –

पुरश्चरण – काले तु, गायत्री प्रजपेन्नरः।

मूल विद्या दशांशं च ,  मंत्र   सिद्धिर्भवेद् ध्रुवम् ।। 

त्यक्त्वा तां मंत्र   गायत्री , यो जपेन्मन्त्रमादरात्।

कोटि-कोटि जपेनापि, तस्य सिद्धिर्न जायते।।

जप-संख्या यत्र नोक्ता, लक्षमेकं कुमारक!।

दिन – संख्या यत्र नोक्ता, पक्षमेकं न संशयः।।

गायत्री बगलानाम्नी, बगलायाश्च जीवनम्।

मन्त्रादौ चाथ मन्त्रान्ते, जपेद् ध्यान-पुरस्सरम्।।

उपर्युक्त कारणों के आधार पर ही श्री बगला-गायत्री का उल्लेख यहां किया जा रहा है।

1. ॐ ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे स्तम्भन बाणाय धीमहि तन्नो बगला प्रचोदयात्।
2. ॐ  ऐं बगलामुखी विद्महे,  ॐ  क्लीं कान्तेश्वरी धीमहि ॐ  सौः तन्नः प्रह्लीं प्रचोदयात्।।  (बाला मन्त्र सम्पुटित)

बगलामुखी गायत्री मंत्र जप विधान

ॐ ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे स्तम्भन बाणाय धीमहि तन्नो बगला प्रचोदयात्।

विनियोग: – अस्य श्री बगलागायत्रीमंत्रस्य ब्रह्मा ट्टषिः, गायत्री छन्दः, चिन्मयी शक्तिरूपिणी ब्रह्मास्त्र बगला देवता, ॐ बीजं, ह्रीं शक्तिः, विद्महे कीलकं, श्री बगलामुखी देवता प्रीतये जपे विनियोगः।

ॠष्यादि न्यास:
ॐ  श्री ब्रह्मर्षये नमः शिरसि।
गायत्री छन्दसे नमः मुखे।
ब्रह्मास्त्र बगला देवतायै नमः हृदये।
ॐ बीजाय नमः गुह्ये।
ह्रीं शक्तये नमः पादयोः।
विद्महे कीलकाय नमः सर्वांगे।

कर-न्यास:
ॐ  ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे अंगुष्ठाभ्यां नमः।
स्तम्भन बाणाय धीमहि तर्जनीभ्यां स्वाहा ।
तन्नो बगला प्रचोदयात् मध्यमाभ्यां वषट्।
ॐ ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे अनामिकाभ्यां हुं।
स्तम्भन बाणाय धीमहि कनिष्ठिकाभ्यां वौषट्।
तन्नो बगला प्रचोदयात् करतलकरपृष्ठाभ्यां फट्।

षडंग-न्यास:
ॐ ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे हृदयाय नमः।
स्तम्भन बाणाय धीमहि शिरसे स्वाहा।
तन्नो बगला प्रचोदयात् शिखायै वषट्।
ॐ ह्ल्रीं ब्रह्मास्त्राय विद्महे कवचाय हुं।
स्तम्भन बाणाय धीमहि नेत्रत्रयाय वौषट्।
तन्नो बगला प्रचोदयात् अस्त्राय फट्।

इसके उपरान्त जप करें। गायत्री-जप करने के उपरान्त यदि मूल- मंत्र अथवा अन्य किसी मंत्र का जप करना हो तो उसी मंत्र के ध्यान व न्यास आदि करने चाहिए। बगला-गायत्री का ध्यान मूल-मंत्र के अनुसार ही करें।
अब बगला-गायत्री मंत्र के प्रयोगों के विषय में स्पष्ट कर रहा हूं।

प्रयोग

मोक्षार्थ: ‘ॐ ’ सहित जप करें।
कामार्थ: ‘ॐ ग्लौं’ सहित जप करें।
उच्चाटनार्थ: ‘ग्लौं’ सहित जप करें।
सम्मोहनार्थ: ‘क्लीं’ सहित जप करें।
स्तम्भनार्थ: ‘ह्ल्रीं’ सहित जप करें।
भूत-प्रेत-पिशाचादि से निवृत्ति: ‘ह्रीं ’ सहित जप करें।
ज्वर महाताप की शान्ति: ‘वं’ सहित जप करें।
राजा-वशीकरण तथा इष्ट-सिद्धि :  ‘ह्रीं’ सहित जप करें।

विद्वेषणार्थ: ‘धूं-धूं’ सहित जप करें।
मारणार्थ: ‘हूं ग्लौं ह्रीं’ सहित जप करें।
विद्यार्थ: ‘ऐं’ सहित जप करें।
सुयोग्य कन्यार्थ: ‘ऐं क्लीं सौः’ सहित जप करें।
धनार्थ : ‘श्री’ सहित जप करें।
विष-नाशार्थ: ‘क्षिप’ सहित जप करें।
प्रेतबाध-नाशार्थ: ‘हं’ सहित जप करें।
रोग-नाशार्थ: ‘ॐ जूं सः’ सहित जप करें।

उपरोक्त सभी बीजों को बगला-गायत्री मन्त्र के आदि (आरम्भ) में लगाकर जप करने से निर्दिष्ट फल की प्राप्ति होती है।

बीज सम्पुटीकरण विधान

भूमि-प्राप्ति के लिए ”स्तम्भन बाणाय“ के बाद ”ग्लौं“ बीज लगाकर जप करें। शत्रु को ताप व मृत्यु प्रदान करने के लिए मन्त्र के आरम्भ में ‘रं’ लगाकर जप करें।
राज-वशीकरण के लिए मन्त्र के आदि में ‘ह्रीं’ लगाकर जप करना चाहिए।
इन सभी मन्त्रों का जप कामनानुसार चयन करके करना चाहिए। जप-संख्या कम से कम एक लाख होनी आवश्यक है।

स्मरण रखें! कलिकाल में गायत्री -जप के बिना कोई भी मन्त्र सिद्ध हो ही नहीं सकता, यथा

गायत्री च बिना मन्त्रो न सिद्धयति कलौ युगे

यदि करोड़ों मन्त्रों का जप कर लिया हो और गायत्री-जप (बगला- गायत्री ) नहीं किया, तो साधक को कोई भी मन्त्र सिद्ध नहीं हो सकता।

उपरोक्तानुसार जप-विधान का पालन करने से बगला-गायत्री संसार में सभी सिद्धि प्रदान करती है। चार लाख जप करने से इसका पुरश्चरण होता है। जप का दशांश चालीस हजार तर्पण और तर्पण का दशांश चार हजार मन्त्रों का हवन घी से होता है। हवन का दशांश चार सौ ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है। यदि इतनी संख्या में ब्राह्मणों को भोजन कराने की सामर्थ्य न हो तो चालीस अथवा ग्यारह ब्राह्मणों को भोजन अवश्य कराएं। यही इस मन्त्र का पूर्ण विधान है।

अधिक जानकारी के लिए आप हमारी पुस्तक बगलामुखी तंत्रम एवं बगलामुखी साधना और सिद्धि का अध्यन अवश्य करें ।

यदि आप माँ बगलामुखी साधना के बारे में अधिक जानना चाहते हैं तो नीचे दिये गए लेख पढ़ें –

Download Other Articles in Pdf on Mantras Tantras Yantras

2 thoughts on “बगलामुखी गायत्री मंत्र Baglamukhi Gayatri Mantra

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: