बीज नाम मन्त्रात्मक श्रीदुर्गा सप्तशती

बीज-नाम-मन्त्रात्मक श्रीदुर्गा सप्तशती ( बीजात्मक दुर्गा सप्तशती )

साधकों के कल्याणार्थ विभिन्न गोपनीय विधियों को यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है। कृपया किसी योग्य गुरु के मार्ग दर्शन में ही इस साधना को सम्पन्न करें। अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें – 9540674788 , 9917325788 ( whatsapp ) Email : shaktisadhna@yahoo.com

बीज-नाम-मन्त्रात्मक
श्रीदुर्गा सप्तशती
प्रथम चरितम् – प्रथमोऽध्यायः
श्रीगुरवे नमः, श्रीगणेशाय नमः।


विनियोग – ॐ अस्य प्रथम-चरितस्य श्रीब्रह्मा ऋषिः। गायत्री छन्दः। श्रीमहा-काली देवता। नन्दा शक्तिः। रक्त-दन्तिका बीजं। अग्निः तत्त्वं। ऋग्-वेदः स्वरूपं। श्रीमहा-काली-प्रीत्यर्थे प्रथम-चरित-जपे (पाठे) विनियोगः।

ऋष्यादि-न्यास

श्रीब्रह्मा-ऋषये नमः शिरसि।
गायत्री-छन्दसे नमः मुखे।
श्रीमहा-काली-देवतायै नमः हृदि।
नन्दा-शक्तये नमः नाभौ।
रक्त-दन्तिका-बीजाय नमः लिङ्गे।
अग्नि-तत्त्वाय नमः गुह्ये।
ऋग्-वेद- स्वरूपाय नमः पादौ। श्रीमहा-काली-प्रीत्यर्थे प्रथम-चरित-जपे (पाठे) विनियोगाय नमः सर्वाङ्गे।


।।श्रीमहा-काली-ध्यान।।
ॐ खड्गं चक्र-गदेषु-चाप-परिघान् शूलं भुशुण्डी शिरः।
शङ्ख सन्दधतीं करैस्त्रि-नयनां सर्वाङ्ग-भूषावृताम्।।
नीलाश्म-द्युतिमास्य-पाद-दशकां सेवे महा-कालिकाम्।
यामस्तोत् स्वपिते हरौ कमलजो हन्तुं मधुं कैटभम्।।


।।ॐ नमश्चण्डिकायै।।
ॐ ऐं श्रीं आद्यायै नमः।।१
ॐ ऐं ह्रीं काल्यै नमः।।२
ॐ ऐं क्लीं कराल्यै नमः।।३
ॐ ऐं श्रीं महा-काल्यै नमः।।४
ॐ ऐं प्रीं कल्याण्यै नमः।।५ ॐ ऐं ह्रां कलावत्यै नमः।।६
ॐ ऐं ह्रीं महा-काल्यै नमः।।७
ॐ ऐं स्त्रों कलि-दर्पघ्न्यै नमः।।८
ॐ ऐं प्रें कपर्दीश-कृपान्वितायै नमः।।९
ॐ ऐं म्रीं कालिकायै नमः।।१०


ॐ ऐं हल्रीं काल-मात्र्यै नमः।।११ ॐ ऐं म्लीं कालानल-सम-द्युत्यै नमः।।१२
ॐ ऐं स्त्रीं कपर्दिन्यै नमः।।१३
ॐ ऐं क्रां करालास्यायै नमः।।१४
ॐ ऐं हस्लीं करुणामृत-सागरायै नमः।।१५
ॐ ऐं क्रीं कृपा-मय्यै नमः।।१६
ॐ ऐं चां कृपाधारायै नमः।।१७
ॐ ऐं भें कृपा-पारायै नमः।।१८
ॐ ऐं क्रीं कृपागमायै नमः।।१९
ॐ ऐं वैं कुशान्वै नमः।।२०

ॐ ऐं ह्रौं कपिलायै नमः।।२१
ॐ ऐं युं कृष्णायै नमः।।२२
ॐ ऐं जुं कृष्णानन्द-विवर्धन्यै नमः।।२३
ॐ ऐं हं काल-रात्र्यै नमः।।२४
ॐ ऐं शं काम-रूपायै नमः।।२५
ॐ ऐं रों काम-पाश-विमोचन्यै नमः।।२६
ॐ ऐं यं कादम्बिन्यै नमः।।२७
ॐ ऐं विं कला-धारायै नमः।।२८
ॐ ऐं वैं कलि-कल्मष-नाशिन्यै नमः।।२९
ॐ ऐं चें कुमारी-पूजन-प्रीतायै नमः।।३०
ॐ ऐं ह्रीं कुमारी-पूजकालयायै नमः।।३१

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: